Friday, January 25, 2008

हदों मे रह के कभी प्यार हो नही सकता

हदों मे रहके तो व्यापार होते आयें हैं हदों में रहके कभी प्यार हो नही सकता हदों में रहके तुम इन्कार कर तो सकते हो हदों में रहके पर इकरार हो नहीं सकता तूँ जिस तरह से किनारे को पकडे बैठा है आज क्या तूँ कभी उस पार हो नहीं सकता जो अपने यार की उम्मीद पे ना उतरे खरा वो रिश्तेदार ही होगा वो यार हो नही सकता खोने और पाने का हिसाब जब लगे लगने तो फिर वो दोस्ती होगी वो प्यार हो नहीं सकता अगर पाना है मंजिल को तो घर को छोडना होगा कैदी दीवारों का मंजिल का हकदार हो नही सकता निकलना दायरों से तेरा लाजिम है तूँ मेरी मान रह के दायरों मे तूँ मेरा प्यार हो नहीं सकता रिश्तों में हदें होती हैं नहीं प्यार में होती हदों में रिश्ते निभ सकते हैं प्यार हो नहीं सकता खुले आकाश मे उडना अगर चाहत है तो सुन ले हदों के पिंजरे मे रहके ये मुमकिन हो नहीं सकता निकल जाती है गाडी सामने से उस मुसाफिर के जो रहते वक्त गाडी मे सवार हो नहीं सकता मेरे तन मन पे तो अधिकार तेरा , सिर्फ तेरा है भले तुझ पर यही अधिकार मेरा हो नहीं सकता

2 comments:

mehek said...

bahut lajawab,agar aakash mein udana hai to,pinjere mein rehke ye nahi ho sakta.sundar.

Krishan lal "krishan" said...

Mehek ji thanks for sharing and generously appreciating the thoughts