Tuesday, June 3, 2008

तुम ही क्योँ नही समझ जाती जो नहीं कहा है मैने

पता नही क्यों जम जाते है स्वर नली मे वो सारे शब्द जिन्हे रात भर अपने प्यार की गर्मी से रखता हूँ गर्म ताकि उगल सकूँ उन्हे ज्यों का त्यों अगर और कुछ ना भी कह सकूँ तुम से जब तुम मिलो सुबह रेलवे फाटक के उस पार कालिज जाते हुये पता नही क्यों खडा रह्ता हूँ जडवत घन्टो तुम्हारे इन्त्जार मे सारी शक्ति कहाँ खो जाती है शरीर क्यों हो जाता हैं निढाल ठीक उस क्षण जब तुम आने ही वाली होती हो लगता है कमजोर पड रही है पाँव तले की जमीन और मै अकस्मात चल पडता हूँ वहाँ से बिना तुम्हे मिले बस ये सोच कर कि कल फिर एक बार करूँगा कोशिश वहाँ पर टिके रहने की उन जमे हुये शब्दो को बाहर निकालने की पता नही क्यों मुझे पता है कि नहीं होगा कुछ भी कल आज से ज्यादा फिर तुम ही क्यों नही समझ जाती जो नही कहा है मैने या क्यों नही अपने प्यार की गर्मी मिला देती मेरे प्यार की गर्मी मे तकि उस गर्मी से पिघल सके वो शब्द जो जम जाते है जब भी तुम सामने होती हो

2 comments:

अल्पना वर्मा said...

bahut sundar..


shayad is sandarbh mein bahuton ke man ki baat ek si hi hoti hai...

Krishan lal "krishan" said...

जी अल्पना वर्मा जी
आप ने एक दम सही कहा इस स्न्दर्भ मे बहुतो के मन की बात एक सी ही होती है। बस कहने का अन्दाज और समय अलग हो सकता है।
अब आप ही देखिये कब की यादे कब जाकर उभरी है यानि कि वो कहते है ना कि "दर्द कब जा के उठा चोट लगे देर हुई॥
नज्म पसन्द करने के लिये हृदय से आपका आभारी हूँ