Monday, June 1, 2009

रफू के साथ ही सुराख बढते जा रहें हैं

हादसे हद से बढते जा रहे हैं
 हम अपने कद में घटते जा रहे हैं

 रफू कैसे करुंगा मैं अपना चाक दामन
रफू के साथ ही सुराख बढते जा रहें हैं

 बहुत मुश्किल है अब तो नग्न होने से बचना
 बदन पे वस्त्र तो हर रोज घटते जा रहें हैं

ना जाने कौन मौसम में मुझे ज़ख्मी किया तुमने
कि सारे ज़ख्म ही नासूर बनते जा रहे हैं

 समय के साथ भर जाते ज़ख्म कोई गैर जो देता
 ये मेरे ज़ख्म तो हर रोज़ बढते जा रहे हैं

 दीया बुझाने का इल्ज़ाम ना ले सब्र कर थोड़ा
 हवांए तेज हैं दीये खुद ही बुझते जा रहे हैं

4 comments:

रंजना said...

Gazal ke bhaav bahut hi sundar hain...parantu is sher par ek baar punarvichaar kar len...

रफू कैसे करुंगा मैं अपना चाक दामन
बहुत मुश्किल है अब तो नग्न होने से बचना

sabhi sheron ke beech yah kuchh bejod sa lag raha hai..ek baar punrvichaar kar punah preshit kar den.

Krishan lal "krishan" said...

ranjan jii
aap kaa bahut bahut shukriya ghazal psaand karne ke liye. type karte hue ek line idhar se udhar ho gayee thi jo atpati lag rahi thi. Ab therek kar di hai. dhyan dilane ke liye bahut bahut shukriya.
aap jaise jagruk sathiyon se bahut kuchh seekhne ko mil sakta hai.

Krishan lal "krishan" said...

Ranjna jii
Aap ka bahut bahut shukriya ghazal psaand karne ke liye. type karte hue ek line idhar se udhar ho gayee thi jo atpati lag rahi thi. Ab therek kar di hai. dhyan dilane ke liye bahut bahut shukriya.
aap jaise jagruk sathiyon se bahut kuchh seekhne ko mil sakta hai.

01 June, 2009 16:45

परमजीत बाली said...

बहुत सुन्दर!!